Category: श्राद्ध पक्ष-पितृ पक्ष

Aadhyatimakata | Dharm Karma | Darshan | Dharma Darshan |

कर दर्शन

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

Aadhyatimakata | Dharm Karma | Darshan | Dharma Darshan |

लक्ष्मी माँ की प्रसन्नता पाने हेतु

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

pitru paksha 2020 | pitru paksha chaturthi 2020 | pitru paksha | pitru paksha bhojan

विघ्नों और मुसीबते दूर करने के लिए

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

pitru paksha 2020 | pitru paksha chaturthi 2020 | pitru paksha | pitru paksha bhojan

जानिए पुराणों के अनुसार श्राद्ध का महत्व

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

pitru paksha 2020 | pitru paksha chaturthi 2020 | pitru paksha | pitru paksha bhojan

पितृ पक्ष-श्राद्ध विशेष

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

pitru paksha 2020 | pitru paksha chaturthi 2020 | pitru paksha | pitru paksha bhojan

श्राद्ध कर्म

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

pitru paksha 2020 | pitru paksha chaturthi 2020 | pitru paksha | pitru paksha bhojan

श्राद्ध पक्ष के सभी मुख्य नियम

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

AkashVani Astrology Post

कब करे श्राद्ध

श्राद्ध सदैव दोपहर के समय ही करें। प्रातः एवं सायंकाल के समय श्राद्ध निषेध कहा गया है। हमारे धर्म-ग्रंथों में पितरों को देवताओं के समान संज्ञा दी गई है।

AkashVani Astrology Post

पितृ पक्ष की विशेष तिथियां

जिन लोगों को अपने परिजनों की मृत्यु की तिथि ज्ञात नहीं होती, उनके लिए पितृ पक्ष में कुछ विशेष तिथियां भी निर्धारित की गई हैं, जिस दिन वे पितरों के निमित्त श्राद्ध कर सकते हैं।

AkashVani Astrology Post

पितृ पक्ष – श्राद्ध-2020

भारतीय शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि पितृगण पितृपक्ष में पृथ्वी पर आते हैं और 15 दिनों तक पृथ्वी पर रहने के बाद अपने लोक लौट जाते हैं।