Category: कष्ट-निवारण

AkashVani Astrology Post

पितृ पक्ष – श्राद्ध

जिन लोगों को अपने परिजनों की मृत्यु की तिथि ज्ञात नहीं होती उनके लिये भी श्राद्ध-पक्ष में कुछ विशेष तिथियाँ निर्धारित की गई हैं । उन तिथियों पर वे लोग पितरों के निमित श्राद्ध...

AkashVani Astrology Post

कौवे से जुड़े शकुन और अपशकुन का रहस्य?

जानवरों के संबंध में अनेको बाते  हमारे पुराणों एवं ग्रंथो में भी विस्तार से बतलाई गई है। प्राचीन समय के ऋषियों मुनियों ने अपने शोध में बताया था की प्रत्येक जानवर के विचित्र व्यवहार...

Shani Saturn

शनि देवता के गोचर भ्रमण से जनमानस पर क्या प्रभाव पड़ता है?

जब शनि लग्न में गोचर कर रहे हों तो उनके दृष्टि क्षेत्र में तीसरा भाव प्रभावित हो जता है। तीसरे भाव छोटे भाई-बहिन, पराक्रम व छोटी यात्रा का होता हैं। तीसरे भाव का दिशाक्रम...

Shani Saturn

शनि साढ़े साती के चरण परिचय

शनि साढेसाती में शनि तीन राशियों पर गोचर करते है शनि साढेसाती में शनि तीन राशियों पर गोचर करते है. तीन राशियों पर शनि के गोचर को साढेसाती  के तीन चरण के नाम से...

स्वपन

सपनों से जीवन का क्या सम्बन्ध है

क्या होता है जब सपने आते हैं? ज्योतिष शास्त्र में सपनों को लेकर कई मान्यताएं प्रचलित हैं। जिसके अनुसार सपने हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में बताते हैं।कुछ सपने शुभ फल...

Laghu Parashari ke Mukhya Siddhant

लघु सिद्धांत पाराशरी के मुख्य सूत्र

सभी ग्रह जिस स्‍थान पर बैठे हों, उससे सातवें स्‍थान को देखते हैं। शनि तीसरे व दसवें, गुरु नवम व पंचम तथा मंगल चतुर्थ व अष्‍टम स्‍थान को विशेष देखते हैं। कोई भी ग्रह...

Janiye Aaj Mantrajprat Se Shuddhi Tan Man Aadi

जानिये आज मंत्रजप्रत से शुद्ध शरीर मन तन आदि

शास्त्रों में जन्मकुण्डली के बारह स्थान बताये गये हैं। एक करोड़ जप पूरा होने पर उनमें से प्रथम स्थान-तनु स्थान शुद्ध होने लगता है। रजो-तमोगुण शांत होकर रोगबीजों व जन्म-मरण के बीजों का नाश...