Category: वैदिक ज्योतिष

AkashVani Astrology Post

पितृ पक्ष – श्राद्ध

जिन लोगों को अपने परिजनों की मृत्यु की तिथि ज्ञात नहीं होती उनके लिये भी श्राद्ध-पक्ष में कुछ विशेष तिथियाँ निर्धारित की गई हैं । उन तिथियों पर वे लोग पितरों के निमित श्राद्ध...

AkashVani Nakshatra

श्रवण चरण फल

श्रवण चरण नक्षत्र प्रथम चरण इसका स्वामी मंगल है। इसमे शनि, चन्द्र, मंगल ♄ ☾ ♂ का प्रभाव है। मकर 10।00 से 13।20 अंश। नवमांश मेष। यह आकांक्षा, जीवनवृत्ति, सूत्रपात का द्योतक है। जातक...

AkashVani Nakshatra

उत्तराषाढ़ा चरण फल

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र प्रथम चरण इसका स्वामी गुरु है। इसमे गुरु, सूर्य, गुरु का प्रभाव है। धनु 266।00 से 270।00 अंश। नवमांश धनु। यह संचार, विश्वास, खर्चीलेपन का द्योतक है। जातक सौम्य, गौर वर्ण, अश्व...

AkashVani Nakshatra

पूर्वाषाढ़ा चरण फल

पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र प्रथम चरण इसका स्वामी सूर्य है। इसमे गुरु, शुक्र, सूर्य का प्रभाव है। धनु 253।20 से 256।40 अंश। नवमांश सिंह। यह अभिमान, विश्वास, आध्यात्मिकता का द्योतक है। जातक सिंह समान देह वाला,...

AkashVani Nakshatra

मूल चरण फल

नक्षत्र मूल नक्षत्र प्रथम चरण इसका स्वामी मंगल है। इसमे गुरु, केतु, मंगल का प्रभाव है। धनु 240।00 से 243।20 अंश। नवमांश मेष। यह जिज्ञासा, सकारात्मकता, आध्यात्म का द्योतक है। जातक सुन्दर दांत व...

AkashVani Astrology Post

ग्रह दशा

कुछ ऐसे संकेतों के बारे में जानें जो यदि आपमें प्रकट हो रहे हैं तो समझें आपकी ग्रह दशा बिगड़ रही है पैर हिलाना यदि अचानक पैर हिलाने की आदत बढ़ रही है या...

Shani Saturn

शनि की साढे साती

ज्योतिष के अनुसार शनि की साढेसाती की मान्यतायें तीन प्रकार से होती हैं। पहली लगन से दूसरी चन्द्र लगन या राशि से और तीसरी सूर्य लगन से, उत्तर भारत में चन्द्र लगन से शनि...

AkashVani Career

ज्योतिष से चुनें शिक्षा क्षेत्र

सर्वप्रथम जातक के बचपन से ही उसकी कुण्डली विषय की पढाई व केरियर चयन में सहायक होती हैं । जातक की कुण्डली से तय करना चाहिए कि वह नौकरी करेगा या व्यवसाय । जातक...