Tagged: Guru

Janiye Aaj Mantrajprat Se Shuddhi Tan Man Aadi

जानिये आज मंत्रजप्रत से शुद्ध शरीर मन तन आदि

शास्त्रों में जन्मकुण्डली के बारह स्थान बताये गये हैं। एक करोड़ जप पूरा होने पर उनमें से प्रथम स्थान-तनु स्थान शुद्ध होने लगता है। रजो-तमोगुण शांत होकर रोगबीजों व जन्म-मरण के बीजों का नाश...

Kuch Vishist Dhan Yog

कुछ विशिष्ट धन योग

धन जीवन की मौलिक आवश्यकता है। सुखमय, ऐश्वर्य संपन्न जीवन जीने के लिए धन अति आवश्यक है। आधुनिक भौतिकतावादी युग में धन की महत्ता इतनी अधिक बढ़ चुकी है कि धनाभाव में हम विलासितापूर्ण...

Prem Aur Prem Vivaah

प्रेम व प्रेमविवाह के योग

आज के समय मे लडका लडकी की आपसी पसदं से विवाह होना आम बात है बच्चो की खुशी के लिए माॅ बाप भी मना नही करते लेकिन हर विवाह चाहे लव हो अच्छे से...