Tagged: Jyotish

AkashVani Astrology Post

कर्म, भाग्य और ज्योतिष

जीवन में पुरूषार्थ और भाग्य दोनों का ही अलग-अलग महत्व है जीवन में पुरूषार्थ और भाग्य दोनों का ही अलग-अलग महत्व है। ये ठीक है कि पुरूषार्थ की भूमिका भाग्य से कहीं अधिक महत्वपूर्ण...

AkashVani Career

ज्योतिष से चुनें शिक्षा क्षेत्र

जन्म कुण्डली का नवम भाव धर्म त्रिकोण स्थान हैं जिसके स्वामी देव गुरू बृहस्पति हैं यह भाव शिक्षा महत्वाकांक्षा व उच्च शिक्षा तथा उच्च शिक्षा किस स्तर की होगी को दर्शाते हैं यदि इसका सम्बन्ध पंचम भाव से हो जाए तो अच्छी शिक्षा तय करते हैं ।

Shani Saturn | Shani Dev | Shani Maharaj

शनि देवता के गोचर भ्रमण

जब शनि लग्न में गोचर कर रहे हों तो उनके दृष्टि क्षेत्र में तीसरा भाव प्रभावित हो जता है। तीसरे भाव छोटे भाई-बहन, पराक्रम व छोटी यात्रा का होता हैं।

Shani Saturn | Shani Dev | Shani Maharaj

द्वादश भावों मे शनि का फल

जन्म कुंडली के बारह भावों मे जन्म के समय शनि अपनी गति जन्म कुंडली के बारह भावों मे जन्म के समय शनि अपनी गति और जातक को दिये जाने वाले फ़लों के प्रति भावानुसार...

Laghu Parashari ke Mukhya Siddhant

लघु सिद्धांत पाराशरी के मुख्य सूत्र

सभी ग्रह जिस स्‍थान पर बैठे हों, उससे सातवें स्‍थान को देखते हैं। शनि तीसरे व दसवें, गुरु नवम व पंचम तथा मंगल चतुर्थ व अष्‍टम स्‍थान को विशेष देखते हैं।

Kis tarah se kare mantra jaap

किस तरह से करें पूजा एवं मंत्र जाप।

मंत्र जाप में शुद्ध शब्दों के बोलने का विशेष ध्यान रखें, जिन अक्षरों से शब्द बनते हैं। उनके उच्चारण स्थान पांच है जो पंचतत्व से संबंधित है। होठ पृथ्वी तत्व जीभ जल तत्व दांत...

Kya aapke gharme vastudosh hai

क्या आप के घर मे वास्तुदोष है?

क्या आप के घर मे वास्तुदोष है अगर है तो आप भी अपने घर के वास्तु दोषों को दूर कर अपने घर वातावरण मंगलमय बना सकते हैं|

Janmke paye ke bareme janana

जन्म के पाया के बारे में जानना

पाया का विचार दो प्रकार से किया जाता है नक्षत्र से तथा चंद्रमा से जन्म के पाया के बारे में जानना – पाया का विचार दो प्रकार से किया जाता है नक्षत्र से तथा...

Ravi Pushya Yog

रवि पुष्य योग

रवि पुष्य योग समस्त शुभ और मांगलिक कार्यों के शुभारंभ के लिए उत्तम माना गया है। यदि ग्रहों की स्थिति प्रतिकूल हो अथवा कोई अच्छा मुहूर्त नहीं भी हो, ऐसी स्थिति में भी रवि पुष्य योग सभी कार्यों के लिए परम लाभकारी होता है लेकिन विवाह को छोड़कर।

Shanimaharaj

शनिमहाराजजी

आज हम आपको बतायेगें कि शनि महाराज को प्रसन्न करने के लिये क्या करें और क्या न करें? शनिवार के दिन यह दस चीजें ना लाएं घर में!!!!! किसी भी वस्तु के उपयोग या...