तुला - Libra (Seventh sign of zodiac)

Raashi Tula
अधिपति शुक्र
प्रतीक चिन्ह् तराजू/पैमाना।
शुभ मंगल, बुध, शुक्र, शनि
अशुभ सूर्य, चंद्रमा, बृहस्पति
सम कोई नहीं।
मारक मंगल, बृहस्पति, शुक्र
बाधक स्थान सिंह (11वां)।
बाधकपति सूर्य
योगकारक शनि
उच्चस्थ शनि 20°
नीचस्थ सूर्य 10°
मूलत्रिकोण शुक्र (0° – 20°)
आदर्श मिलान राशि कर्कमकर के अतिरिक्त सभी राशियां।
चंद्रमा की शुभ डिग्री 24°
चंद्रमा की अशुभ डिग्री 4°, 26°
भाग्यशाली परफ्यूम/सुगंध गलबानम/गंधाबिरोजा।
भाग्यशाली रत्न हीरा सोने की अंगूठी में तीसरी उंगली में, सफेद पुखराज, नीला नीलम, चंद्र – रत्न।
भाग्यशाली रंग सफेद, संतरी, लाल, हरा व पीले रंग से बचें।
भाग्यशाली दिन रविवार, सोमवार, मंगलवार, बुधवार, शनिवार
भाग्यशाली संख्या 1, 2, 4, 7.
व्रत का दिन मंगलवार
नियंत्रण श्वसन।

विशेष लक्षण :

वायुमय, गतिशील, चर राशि, बंजर, शीर्षोदय, पश्चिम, जलीय, पुरुष, सकारात्मक, दिनचर, दोपाया, लम्बा चढ़ावदार, दक्षिणायन, पित्त, वात कफ, कार्तिक (15अक्टूबर – 15नवम्बर), पूर्वाह्न में बहरा, सूर्य क्षेत्र, अशुभ, विषम, दिन की राशि, धातु, शुद्र, तीव्र, संगीतमय, न्याय व संतुलन की राशि, लयबद्ध, स्वर, बौद्धिक राशि।

रूप, रंग व आकार :

सुन्दर स्वरूप, घुंघराले बाल, झुका हुआ किन्तु लम्बे, छरहरे अंगों समेत संतुलित शरीर, गोरा रंग, पतला शरीर, सामान्य आकृति, चौड़ा चेहरा व छाती, उन्नत नाक, सुन्दर आँखे, छोटी – छोटी कारणों से शारीरिक अस्वस्थता किन्तु आसानी से ठीक हो जाना, टहलने के शौकीन, यौन संबंधों में अत्यधिक आसक्त होना।

सकारात्मक लक्षण/गुण :

आदर्शवादी, बुद्धिमान, हाजिर जवाब, रोमांचक, कलात्मक, विनम्र, स्वीकार्य व्यक्ति, दूरदर्शी, स्वच्छ, आकर्षक, शांति – स्थापक, प्रेरक, सहयोगी, मानवतावादी, निर्णय लेने से पहले अच्छे – बुरे/पक्ष – विपक्ष दोनों पहलुओं को ठीक से तोलना, समायोजन की क्षमता, न्याय, शांति व व्यवस्था से प्रेम, परिष्कृत, पंच की तरह निष्पक्ष व्यवहार करना, प्रेरणादायक व कामुक प्रकृति, स्तर के अनुसार अध्यक्षता, व्यवहार कुशल, सकारात्मक, मिलनसार, तीव्र तर्कशक्ति।

नकारात्मक लक्षण/गुण :

यथार्थवाद से अधिक आदर्शवादी होना, धीमी गति से कार्य करना, असहिष्णु या खिन्न, हवाई महल बनाने की आदत, आसानी से प्रभावित हो जाना, नखरेबाज, वाद -विवाद से बचना, निणर्य लेने की क्षमता ना होना, यौन

संबंधों में अत्यधिक आसक्त होना, हेरा – फेरी करना, अपने विचार दूसरों पर थोपना, रोब दिखाना, चापलूसी के प्रति अत्यधिक संवेदनशील, परिवर्तनशील, प्रतिशोधी, तर्क के प्रति आसानी से उत्तरदायी, भयभीत, क्रोधी।

अधिशासित शारीरिक अंग :

गुर्दा, कमर का भाग, जांघ से कुल्हे तक।

ग्रन्थियां, नसें व धमनियां :

रक्त वाहिनियां, अधिवृक्क ग्रन्थि, कमर का बल।

संभावित रोग :

फोड़ा, मूत्राशय और गुर्दे के विकार, ब्राइट्स डिजीज, मधुमेह, एक्जीमा, नपूसंकता, कटिवात, गुर्दे का प्रदाह, गुर्दे की पथरी, त्वचा रोग, नसबंदी, मूत्र में रूकावट, उपदंश रोग, मूत्र पथ, नसों में विकार।

व्यवसाय व व्यापार :

वैमानिकी, सलाहकार, ब्यूटीशियन, सिनेमा अभिनेता व निर्देशक, ललित कलाएं, फल, पशु, खाद्यान्न, सोना, रत्न, जौहरी, जज, न्याय व कानूनी अदालत, वकील, मुकदमा, मध्यस्थता का कार्य, चिकित्सक, रबर, अंतरिक्ष, परिष्कृत कलाएं, शिक्षक, परिवहन, वस्त्र उद्योग।

राशि वाले :

  1. तुला लग्न वाले शान्ति स्थापक होते हैं जो सत्य व गुण की तुलना निष्पक्षतापूवक्र करते हैं।
  2. ये रोगों के प्रति अतिसंवेदनशील होते हैं इसलिए रोग निरोधी उपाय भी करते हैं।
  3. इनका दाम्पत्य प्रेम मजबूत होता है तथा परम्पराओं का संरक्षण करते हैं।
  4. न्याय, सद्भावना व सहानुभूति तुला के नाम हैं।