वृष - Taurus (Second sign of zodiac)

Raashi Vrushabh
अधिपति शुक्र
प्रतीक चिन्ह् वृषभ
शुभ सूर्य, शनि
अशुभ चंद्रमा, बृहस्पति, शुक्र
सम शुक्र
मारक चंद्रमा, मंगल, गुरु, शुक्र
बाधक स्थान मकर (9वां)।
बाधकपति शनि
योगकारक शनि
उच्चस्थ चंद्रमा 3, राहु
नीचस्थ केतु
मूलत्रिकोण चंद्रमा (3°-30°)
आदर्श मिलान राशि कर्क, कन्या, वृश्चिक, मकर, मीन
चंद्रमा की शुभ डिग्री 14°
चंद्रमा की अशुभ डिग्री 25°, 12°
भाग्यशाली परफ्यूम/सुगंध स्टोरेक्स/बाल्सम।
भाग्यशाली रत्न हीरा, नीलम, पन्ना। सोने की अंगुठी में दाएं हाथ की तीसरी उंगली में।
भाग्यशाली रंग हरा, नीला, गुलाबी, सफेद। लाल रंग के प्रयोग से परहेज करें।
भाग्यशाली दिन सोमवार, बुधवार, शुक्रवार, शनिवारगुरुवार को साथी/सांझेदार के जरीए लाभ।
भाग्यशाली संख्या 2, 7, 8, 9.
व्रत का दिन शुक्रवार
नियंत्रण हड्डी, मांस।

विशेष लक्षण :

स्थलीय, अचल, स्थिर राशि, मध्यम फलदायक, पृष्ठोदय, दक्षिण, दिन, स्त्री, नकारात्मक, चौपाया, रात से संबंधी, कम चढ़ावदार, उत्तरायण, वायुमय, ज्येष्ठ ”15 मई- 15 जून”, मध्य रात्रि में अन्धा, चंद्र क्षेत्र, शुभ, सम, रात की राशि, मूल(पेड़, पौधे), वैश्य, अधिकारात्मक, सौम्य, सहनशील, कोमल, चिकनी राशि।

रूप, रंग व आकार :

सांवला रंग, छोटा कद, वर्गाकार/चौरस आकृति, उन्नत चेहरा व आँखें, बड़ा चेहरा, बड़े कान, मोटा व मजबूत गर्दन, थुल- थुल जांघें, फुले हुए व चौड़े हाथ, स्थूल प्रवृत्ति, बगलों में या पीठ पर मस्सा या निशान, मदमस्त चाल, अच्छी पाचनशक्ति, महिलाएं जातक सुन्दर व आकर्षक।

सकारात्मक लक्षण/गुण :

खुशी, प्रेम, सुन्दरता व संगीत का शौकीन, सजग व अपरिवर्तनशील दृष्टिकोण, दिलदार, आत्मनिर्भर, शान्त व धैर्यवान, महात्वाकांक्षी, दानशील, त्याग व क्षमा भावना से परिपूर्ण, असाधारण सहनशक्ति, क्रोध को लम्बे समय तक कायम ना रखना, खाना बनाने का शौकीन, प्रेममय, शिष्ट, उदार हृदय, दृढ़ इच्छाशक्ति, विश्वसनीय, सतर्क, कल्पनाशील, विस्तृत, सौम्य व शांत, स्नेहशील, भावमय, विवेकी, आंतरिक बल, दृढ़, व्यावहारिक, भरोसेमंद, कलात्मक, उद्यमी।

नकारात्मक लक्षण/गुण :

लालची, अचल और कठोर प्रकृति, धीमी गति से कार्य करना, सुस्त, थोड़ा स्वार्थी और प्रतिशोधी, हठी, क्रोधी, नकलची, चिड़चिड़ा, अडि़यल, असंवेदनशील, घमंडी, भौतिकवादी, कल्पनाहीन, पक्षपातपूर्ण।

अधिशासित शारीरिक अंग :

चेहरा, नीचला जबड़ा, तालू, कान, ठुड्ढी, गर्दन, गला, अलिजिह्वा/गले की घंटी, कंठनली, जीभ।

ग्रन्थियां, नसें व धमनियां :

टॉन्सिल, थायरॉयड ग्रंथि, गले की नसें।

संभावित रोग :

गले की सूजन, अंधापन, कानदर्द, गले या पश्चमस्तिष्क पिंड/सेरिबैलम की समस्या, गण्डमाला, गठिया, टॉन्सिल की सूजन, नाकड़ा/नाक में ट्यूमर, चेहरे का पक्षाघात, चेचक, फोड़ा, कण्ठमाला, कंठप्रदाह, स्वरयंत्र- प्रदाह, मोटापा।

व्यवसाय व व्यापार :

सेना में इंजीनियर, वाणिज्यिक इकाई, वित्त प्रबन्धक, एकाउंटेन्ट, बैंकर/साहुकार, विलासिता की वस्तुओं का व्यापार, सिविल सेवक, खाद्यान्न, फलों, बागवानी, पशुपालन, वेश्यालय, होटल, मुर्तिकार, जौहरी, बिल्डर/निमाणकर्ता ढउंपसजवरूबिल्डर/निमाणकर्ताझ, प्रापर्टी डीलर, ललित कला, कला का व्यापारी, गायक, सीनेमा, मॉडल, थिएटर, वाहन, मानसिक गतिविधियों सहित बौद्धिक कार्यक्षेत्र।

राशि वाले :

  1. वृष लग्न वाले स्वार्थी, आत्म नियंत्रण और हठी होते हैं किन्तु सिद्धान्तवादी भी होते हैं।
  2. ये खाने, पीने व सभी प्रकार की सुविधाओं के शौकीन होते हैं।
  3. ये अत्यंत कामुक होते हैं, अत: यौन रोगों के होने की संभावना होती है।
  4. इनमें असाधारण सहनशक्ति होती है, किन्तु कठोर व अपरिवर्तनशील दृष्टिकोण वाले होते हैं।